IMAGE CREDIT-TWITER

झारखंड़ के हजारीबाग के टाटीझरिया प्रखंड के झरपों गांव में ठगी का अजीबोगरीब मामला सामने आया है. यहां पर सुबोध नाम के एक युवक जो कि 16 साल पहले घर से लापता हो गया था. वो अचानक अक्टूबर 2020 में एक योगी के भेष में घर पहुंचा. इस दौरान उसने खुद को घर का बेटा बताया और अपने कथित पिता से 10 हजार रुपये का मोबाइल फोन मांग कर ले गया..

घर में रहते हुए युवक ने खुद को संन्यासी साबित करने का प्रयास किया. अक्टूबर महीने के बाद आज फिर जनवरी माह में वो अपने परिजनों के पास पहुंचा और सोने की चेन और पांच हजार रुपये की मांग की. इस बात की सूचना सुबोध के पिता को दी गई, पिता युवक को सिमरिया से अपने घर झरपो हजारीबाग ले आए.

जहां उसके साथ सख्ती बरतने के साथ पूछताछ की गई. तो पता चला कि वो उसका कोई बेटा नहीं है बल्कि सफीक नाम का एक शख्स है. फर्जी संन्यासी की पोल खुलने के बाद स्थानीय लोगों ने पुलिस को सूचना दी पुलिस ने युवक को हिरासत में लेकर जांच शुरु कर दी है. परिजनों का इस मामले में कहना है कि पूछताछ के दौरान इस युवक ने अपनी पत्नी से भी बातचीत की.

बातचीत के दौरान पता चला कि ये शख्स यूपी का रहने वाला है और वो मुस्लिम है. घरवालों के मुताबिक ठग युवक ने पीडित परिवार से भंडारा करने के नाम पर साढ़े तीन लाख रुपये की मांग की थी और कहा था कि भंडारा करने के बाद वो अपने गांव वापस लौट आएगा.

ऐसे में अब परिवारीजनों को संदेह है कि ये युवक कोई बड़ा गिरोह चला रहा है उसके घर से लापता बेटा सुबोध भी इन्हीं लोगों के चंगुल में है. ऐसे में पुलिस से मदद की गुहार लगाई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here