देश इस वक्त जहां कोरोना महामारी से जूझ रहा है तो वहीं चक्रवाती तूफानों का सिलसिला भी थम नहीं रहा है. कुछ दिन पहले आए चक्रवाती तूफ़ान निवार ने दक्षिणी राज्यों में कहर बरपाया था. इसे गए अभी एक सप्ताह भी नहीं हुआ कि मौसम विभाग की ओर से एक और चक्रवाती तूफ़ान की चेतावनी जारी कर दी गयी है.

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के चक्रवात चेतावनी विभाग ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में उच्च दबाव के मंगलवार देर रात चक्रवाती तूफ़ान के रूप में बदलने की संभावना है.

मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफ़ान ‘बुरेवी’ के रूप में दो दिसंबर की शाम या रात को त्रिंकोमाली के निकट श्रीलंका तट से गुजरने का पूर्वानुमान है और इस दौरान 75 से 85 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से हवा चलेगी.

चक्रवाती विभाग ने बताया कि इसके बाद यह पश्चिम की और बढ़ते हुए तीन दिसंबर की सुबह मन्नार की खाड़ी और निकटवर्ती कोमोरिन इलाके में पहुंच सकता है. इसके बाद यह पश्चिम-दक्षिणपश्चिम की ओर बढ़ सकता है. चार दिसंबर की सुबह कन्याकुमारी और पम्बन के बीच दक्षिण तमिलनाडु के तट से गुजरेगा.

मौसम विभाग ने मछुआरों को चेतावनी देते हुए कहा कि एक दिसंबर तक बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्व में एवं तीन दिसंबर तक दक्षिण-पश्चिम और श्रीलंका के पूर्वी तट के पास न जाएं. साथ ही मौसम विभाग ने दो से चार दिसंबर तक कोमोरिन क्षेत्र, मन्नार की खाड़ी, दक्षिण तमिलनाडु, केरल और श्रीलंका के पश्चिमी तट पर भी खतरे की चेतावनी दी है.

मौसम विभाग के मुताबिक केरल, पुडुचेरी और दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों में भी चक्रवात पनप रहा है. इसी के चलते इन क्षेत्रों में भारी बारिश होने की संभावना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here