कोरोना को रोकने के लिए योगी सरकार ने अब बड़ी तैयारी करली है. पुलिस, स्वास्थ्य कर्मियों, स्वयंसेवी संगठनों और सरकारी कर्मचारियों को मिलकर ख़ास सेना तैयार की है. वैक्सीन को लेकर उतरने से पहले हजारों लोगों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है. कोरोना के खिलाफ जंग में ये सेना 6 करोड़ सिरिंज से लैस होगी.

कोविड-19 वैक्सीन के सुरक्षित और आसान पहुंचने के लिए प्रदेश में स्टोरेज सेंटर बनाये जा रहे हैं. योगी सरकार पहले चरण में 6 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगा कर कोरोना के सफाए की शुरुआत करेगी. वैक्सीन लगाने के बाद हर व्यक्ति को करीब 30 मिनट वैक्सीन सेंटर पर रुकना होगा. वैक्सीन सेंटर पर भी सुरक्षा के कड़े इंतजाम होंगे.

रणनीति के तहत योगी सरकार ने जिला स्तर पर स्वास्थ्य कर्मियों की तैनाती कर प्रशिक्षण दे रही है. केंद्र सरकार से उपलब्ध कराए गए आइसलैंड रेफ्रीजरेटर और दीप फ्रीजर सेंटरों पर भेजे जा रहे हैं, ताकि मानक के अनुरूप कोल्ड चेन मेनटेन की जा सके. राज्य सरकार ने प्रदेश में 2.5 लाख लीटर वैक्सीन की भण्डारण क्षमता तय कर ली है.

पहले चरण के वैक्सीनेशन के लिए निर्धारित 6 करोड़ सिरिंज में से 4.5 करोड़ सिरिंज का आवंटन भी कर दिया गया है. एक वैक्सीनेशन टीम हर रोज 100 लोगों का टीकाकरण करेगी. सुरक्षा के लिए सरकार ने हर वैक्सीनेशन टीम के साथ दो सुरक्षा कर्मियों की भी तैनाती की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here