80 के दशक में एक से बढ़कर एक हिट फ़िल्में देने वाले धर्मेंद्र लंबे समय से बॉलीवुड से दूर हैं. वे अपना जयदतरर समय फार्म हाउस पर गुज़ारते हैं. धर्मेंद्र सोशल मीडिया पर काफ़ी एक्टिव रहते हैं. अपने फार्म हाउस की तस्वीरें वह अक्सर साझा करते रहते हैं. गांव के बीचों बीच बना बना उनका ये बंगला शानदार है.

कुछ वक्त पहले धर्मेंद्र ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया था. जिसमें वो मेथी का पराठा और चाय का मज़ा लेते दिखे. इस वीडियो को साझा करते हुए उन्होंने लिखा ‘ये सब कुछ उसने दिया है, जो चुपचाप एक दिन ले जाएगा. वो ज़िंदगी बड़ी खूबसूरत है दोस्तों, जीयो इसे जी जान से जीयो.

धर्मेंद्र के इस वीडियो पर एक फ़ैन्स ने लिखा ज़िंदगी को जीना तो पाजी हमने आप से सीखा. अच्छा इंसान कैसे बना जाता है. बॉलीवुड में 80 के दशक में कई हिट फ़िल्में देने वाले धर्मेंद्र का असल नाम धरम सिंह देओल है. धर्मेंद्र का बचपन साहनेवाल में गुजरा. उनके पिता हेडमास्टर थे.  धर्मेंद्र ने अर्जुन हिंगोरानी की फ़िल्म दिल भी तेरा हम भी तेरे से 1960 में बॉलीवुड में डेब्यू किया था.

एक बार धर्मेंद्र के पास भोजन ख़रीदने के लिए पैसे नहीं थे. थके हारे वे अपने रूम पहुंचे, जहां टेबल पर उनके रूम पार्टनर का ईसबगोल का पैकेट रखा हुआ था. भूख मिटाने के लिए धर्मेंद्र ने पूरा ईसबगोल खा लिया. सुबह हालत ख़राब हो गयी और डॉक्टर के पास ले ज़ाया गया. डॉक्टर ने सारा माजरा सुना और कहा इन्हें दावा की नहीं भोजन की ज़रूरत है.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Dharmendra Deol (@aapkadharam)

फ़िल्मी दुनिया में कदम रखने के शुरुआती दिनों में उन्हें काफ़ी संघर्ष करना पड़ा. धर्मेंद्र का डील-डौल पहलवानों जैसा था. जिसको देख कई निर्माताओं ने उन्हें अभिनय छोड़ अखाड़े जाने की सलाह दी. कइयों ने कहा कि पहलवान, गांव लौट जाओ.

फूल और पत्थर धर्मेंद्र के करियर की पहली बड़ी हिट फ़िल्म थी. जिसमें उन्होंने शर्टलेस होकर दर्शकों को चौंकाया था. हालाँकि, इसके लिए उन्हें आलोचना भी झेलनी पड़ी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here