जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले की 30 वर्षीय पूजा देवी राज्य की पहली महिला बस ड्राइवर बन गयी हैं. पूजा देवी ने पहली बार जम्मू-कठुआ मार्ग पर बस चलाई और कई महिलाओं के लिए प्रेरणा बनीं. इस दौरान उनके साथ उनका 7 वर्षीय बेटा भी था. लेकिन उनके लिए बस ड्राइवर बनना इतना आसान नहीं था.

बीते 23 दिसंबर की सुबह जब पूजा देवी ने कठुआ रूट पर बस स्टेरिंग संभाली तो उन्हें देख पब्लिक दंग रह गयी. कुछ साल पहले उन्होंने ड्राइविंग सीखने के लिए टैक्सी चलाई. बाद में जम्मू में ट्रक चलाया.

उनका परिवार और पति दोनों ही ड्राइविंग के फैसले के खिलाफ थे. लेकिन इसकी परवाह किए बिना पूजा ने आगे बढ़ने का फैसला किया. वो कहती हैं कि पहली बार बस चलाकर काफी खुश हूं. टैक्सी और ट्रक पहले भी चला चुकी हूं. उम्मीद नहीं थी कि कोई भरोसा जताएगा लेकिन यह सपना भी पूरा हो गया. कोई बड़े ख्वाब नहीं देखती, लेकिन ड्राइविंग को लेकर खुली आंखों से देखा सपना पूरा कर लिया है. अब मैं अन्य महिलाओं को ड्राइविंग सिखाना चाहती हूं.

पूजा को जम्मू-कश्मीर परिवहन विभाग में नौकरी मिली है. वह बताती हैं कि उनके पति महिलाओं के लिए अच्छा पेशा नहीं मानते हैं. लेकिन पूजा ने अपने पति से कहा कि वह अपने सपने को पूरा करना चाहती है. पूजा ने कहा कि जब महिलाएं फाइटर प्लेन उड़ा सकती हैं, एक्सप्रेस ट्रेन चला रही हैं तो फिर बस क्यों नहीं चला सकती हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here