पूजा यादव ने शुरूआती पढ़ाई हरियाणा से पूरी की. जिसके बाद बायोटेक्नोलॉजी एंड फ़ूड टेक्नोलॉजी में एमटेक किया. एमटेक करने के बाद उन्होंने कुछ सालों तक कनाडा और जर्मनी में नौकरी की. कुछ सालों तक कनाडा और जर्मनी में नौकरी करने के बाद पूजा यादव को अहसास हुआ कि वह भारत के विकास में योगदान देने के बजाय किसी दूसरे देश के विकास के लिए काम कर रही हैं. जिसके बाद उन्होंने नौकरी छोड़ दी और यूपीएससी एग्जाम देने का फैसला किया.

नौकरी छोड़कर पूजा यादव ने यूपीएससी की तैयारी शुरू करदी, लेकिन पहले प्रयास में सफलता नहीं मिली. जिसके बाद दूसरे प्रयास के लिए मेहनत की और सफलता मिल गयी. वह 2018 कैडर की आईपीएस नियुक्त की गयीं.

पूजा यादव के लिए विदेश में नौकरी छोड़कर अफसर बनना आसान नहीं था. पूजा का परिवार आर्थिक रूप से उतना अच्छा नहीं था और जिस कारण उन्होंने कई समस्याओं का सामना किया.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Pooja Yadav (@poojayadav_ips)

पूजा को उनके परिवार का हमेशा समर्थन मिला. एमटेक करने के दौरान यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के दौरान पैसे के लिए उन्होंने कई तरह के काम किए. कभी बच्चों को ट्यूशन दिया तो कभी रिसेप्शनिस्ट का काम किया.

पूजा यादव का मानना है कि यूपीएससी परीक्षा की तैयारी एक लंबी और थकाऊ प्रक्रिया हो सकती है. आप कई बार निराश महसूस कर सकते हैं, लेकिन चिंता करने की जरूरत नहीं है. तैयारी के साथ-साथ अपने शौक को भी समय देने की जरूरत है. जिससे दिमाग को तरोताजा रख पाएंगे.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Pooja Yadav (@poojayadav_ips)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here