साक्षात्कार के दौरान कई बार छात्र हडबडाहट में सही जवाब नहीं दे पाते हैं, जबकि सवाल कुछ खास कठिन नहीं होता है. ये सवाल बेहद साधारण होते हैं लेकिन जल्दबाजी में हम गलती कर देते हैं और गलत जवाब दे बैठते हैं. अगर सोच-समझकर जवाब दिया तो बेहद आसान लगेंगे. कुछ ऐसे ही प्रश्न हम आपके सामने रख रहे हैं.

सवाल: दुनिया में सबसे तेज दौड़ने वाला जानवर कौनसा है?
जवाब: चीता. जोकि 60 किमी प्रति घंटा की रफ़्तार से दौड़ता है.

सवाल: पानी में रहने वाला सबसे बड़ा जीव कौन सा है?
जवाब: ब्लू व्हेल.

सवाल: वह कौनसा पक्षी है जो घोसला नहीं बनाता है?
जवाब: कोयल.

सवाल: वह कौन सी मछली है जो पानी में तैरती है, जमीन पर चलती है और हवा में उड़ती है?
जवाब: गरनाई मछली.

सवाल: शरीर का कौन सा हिस्सा है, जिसमें खून नहीं पाया जाता है?
जवाब: कॉर्निया.

सवाल: कौन सी नदी अपना रंग बदलती रहती है?
जवाब: कैनो क्रिस्टल नदी, जो कोलंबिया में बहती है.

सवाल: शरीर का सबसे मजबूत अंग क्या कौन सा होता है?
जवाब: शरीर को सबसे मजबूत अंग जुबान होती है. जिससे निकली बात इंसान कों पुरस्कार और सजा दोनों दिला सकती है.

सवाल: भारत में ब्लू सिटी के नाम से किस शहर को जाना जाता है?
जवाब: जोधपुर. यह शहर करीब 558 साल पहले बसाया गया था. यह अपने रंग की वजह से जाना जाता है. कहा जाता है कि 1459 में राव जोधा ने जोधपुर शहर की खोज की थी. जोधा, राठौड़ समाज के मुखिया और जोधपुर के 15वें राजा थे.

सवाल:काले रंग के हंस किस देश में पाए जाते हैं?
जवाब: ऑस्ट्रेलिया.

सवाल: मदर टेरेसा के बारे में आप क्या जानते हैं?
जवाब: मदर टेरेसा असहाय बालकों, वृद्धों, कुष्ठ रोगियों आदि की सेवा में जीवन बिताने वाली समाज सेविका रहीं हैं. अपने अमूल्य सेवाओं के लिए उन्हें भारत रत्न, नोबेल शांति पुरस्कार आदि अनेक सुप्रतिष्ठित अलंकरणों से सम्मानित किया गया. अल्बानिया में जन्मीं मदर टेरेसा भारत की नागरिक बन गयी थीं.

सवाल: वास्कोडिगामा किस देश का निवासी था?
जवाब: पुर्तगाल. वास्कोडिगामा ही पहला वह शख्स था जिसने यूरोप को पहली बार भारत तक पहुंचने का समुद्री मार्ग बताया. पहले यूरोप देशों के लिए भारत के पहेली जैसा था. यूरोप अरब के देशों से मसाले, मिर्च आदि खरीदता था लेकिन अरब देश के कारोबारी उसे यह नहीं बताते थे कि यह मसाले वह पैदा किस जगह करते हैं.

1498 में वास्कोडिगामा भारत का समुद्री मार्ग खोजने के लिए निकले. समुद्र के रास्ते कालीकट पहुंचकर उन्होंने यूरोपवासियों के लिए भारत पहुंचने का मार्ग खोज लिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here