मुंबई में शिवसेना नेता नितिन नंदगांवकर ने कराची स्वीट्स के मालिक को दुकान के नाम को लेकर धमकाया. जिसके बाद दुकान मालिक ने नाम को पेपर से ढक दिया. हालांकि पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने नंदगांवकर के इस कदम का समर्थन नहीं किया है. उन्होंने कराची स्वीट्स का समर्थन किया है.

संजय राउत ने कहा है कि दुकान के मालिक का पाकिस्तान से कुछ लेना-देना नहीं है, इसलिए दुकान का नाम बदलने की मांग शिवसेना का अधिकारिक रुख नहीं है.

नंदगांवकर ने कराची स्वीट्स मालिक से कहा था कि उन्हें दुकान का नाम बदलना ही होगा. कहा कि कराची नाम पाकिस्तान से जुड़ा हुआ है और यह मुंबई में इस्तेमाल नहीं होगा. पाकिस्तान आतंकियों से भरा देश है. उन्होंने कहा कि वह उन्हें समय देने के लिए तैयार हैं लेकिन उन्हें जल्द से जल्द नाम बदलना होगा.

दुकान मालिक का कहना है कि उनके परिवार में यह नाम है क्योंकि उनके पूर्वज कराची से थे. कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने शिवसेना कार्यकर्ता को बेवकूफ बताते हुए कहा कि भारत के चाइनीज होटलों का चीन से कोई लेना-देना नहीं है, वैसे ही बांद्रा के कराची स्वीट्स का पाकिस्तान से कोई नाता नहीं है.

संजय राउत ने अपने ट्वीट में कहा कि कराची बेकरी और कराची स्वीट्स मुंबई में 60 सालों से हैं. उनका पाकिस्तान से कोई लेना-देना नहीं है. दुकान का नाम बदलने की मांग रखना शिवसेना का आधिकारिक रुख नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here