आए दिन दहेज से जुड़ी दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं की सूचनांए सुनने को मिलती रहती हैं.समाज में व्याप्त इस कुप्रथा को मिटाने के लिए समय-समय पर अनेक प्रयास होते रहे है. जयपुर ग्रामीण में रहने वाली अनीता वर्मा ने शादी में दूल्हे को कोई दहेज नही दिया है.

इस शादी की पूरे प्रदेश में सराहना की जा रही है समाज में फैली इस कुप्रथा को मिटाने के लिए दूल्हे जय नारायण जाखड़ ने भी उसका खूब साथ दिया।

एक रूपए और नारियल में हुई शादी

पीडब्ल्यूडी में जेईएन पद पर कार्यरत जयनारायण जाखड़ ने मात्र एक रूपए और एक नारियल का सुगन लेकर शादी रचाई। दुल्हन अनीता ने बताया कि बिना दहेज की शादी की पेश कर सबसे पहले दूल्हे के परिवार ने की थी। दूल्हे ने बताया कि उनके दादा सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ हमेशा आवाज़ उठाते रहे हैं और पिता एक वकील है।

ऐसे में दूल्हे ने अपने पिता और दादा से प्रेरित होकर समाज में व्याप्य इस कुरीति को खत्म करने के लिए दहेज रहित शादी करने का निर्णय किया. दूल्हे के इस फैसले में परिवार ने पूरा साथ दिया.

दूल्हा जेई और दुल्हन है पोस्ट ग्रेजुएट

बिना दहेज की शादी के बाद क्षेत्र में दूल्हा और दुल्हन के माता-पिता की खूब प्रशंसा की जा रही है। सीकर जिले के दांतारामगढ़ के निवासी दूल्हे जयनारायण जाखड़ पीडब्ल्यूडी विभाग में जेई के पद पर कार्यरत है और दुल्हन अनीता वर्मा पोस्ट ग्रेजुएट है।

दुल्हन सरकारी नौकरी लगी तो मायके में देगी वेतन

दुल्हन अनीता पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद अब सरकारी नौकरी की तैयारी करेगी। दूल्हे का पूरा परिवार उसका सपोर्ट करेगा। दूल्हे के परिवार ने दुल्हन अनीता से वादा किया है कि अगर उसका चयन सरकारी सेवा होगा तब वह एक साल तक अपना वेतन अपने माता पिता दे सकती है, ताकि एक बेटी को पढ़ा लिखा कर काबिल बनाने का फल उन्हें भी प्राप्त हो।

विधायक भी कर रहे हैं इस अनोखी शादी की तारीफ

इस  की तारीफ सीकर और जयपुर के साथ -साथ पूरे राजस्थान में है दांता रामगढ़ विधायक वीरेंद्र सिंह ने भी दूल्हा-दुल्हन के इस फैसले की सराहना की है विधायक खुद उनकी शादी में शामिल हुए और समाज में व्याप्त दहेज जैसी कुप्रथा को खत्म करने की दिशा में एक अच्छा कदम बताया.।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here