कृषि कानूनों को लेकर किसानों का विरोध प्रदर्शन लगातार जारी है. पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली से सटे सिंधु बॉर्डर पर डटे हुए हैं. किसान कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं जबकि सरकार इसे वापस लेने के मूड में नहीं है. कई दौर की बातचीत के बाद गतिरोध बरकरार है.

एक ओर सरकार किसानों से बातचीत कर रही है तो दूसरी ओर सत्ताधारी दल बीजेपी के नेता किसानों के खिलाफ लगातार बयानबाजियां कर रहे हैं.

यूपी बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने किसान आंदोलन को लेकर बड़ा बयान देते हुए कहा कि इस आंदोलन के पीछे सीएए और एनआरसी के आंदोलन में लगी ताकतें ही षडयंत्र कर रही है.

स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि किसान आंदोलन के पीछे नक्सलवादी, कम्युनिस्ट और माओवादी शक्तियां लगी हुई हैं जो भ्रम फैलाकर उन्हें गुमराह कर रही है. उन्होंने कहा कि ये शक्तियां हमेशा से ही देश के खिलाफ काम करती हैं और इन आंदोलनों के पीछे उन्हीं की साजिश है.

भाजपा नेता ने कहा कि कृषि कानून किसानों के हित में है.विपक्षी दलों के पास कोई मुद्दा नहीं है तो वो किसानों को सरकार के खिलाफ बरगलाने का काम कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार किसानों का हित चाहती है और उनकी आय को बढ़ाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here