image credit-social media

देश में एक ओर जहां लव जिहाद और धर्म परिवर्तन को लेकर बहस चल रही है, बीजेपी शासित कई राज्य कथित लव जिहाद को रोकने के लिए कानून बनाने की वकालत कर रहे हैं वहीं दूसरी ओर भाजपा शासित एक राज्य ऐसा भी है जहां अलग जाति या धर्म में विवाह करने वालों को सरकार की ओर से 50 हजार की प्रोत्साहन राशि दी जा रही है.

उत्तराखंड के समाज कल्याण विभाग की ओर से ये राशि कानूनन पंजीकृत अंतरधार्मिक या अंतरजातीय शादी करने वालों को 50 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशि देने का प्रावधान है.

उत्तराखंड सरकार के समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों ने बताया कि इस योजना में पात्र होने वाले जोड़े का अंतरधार्मिक विवाह किसी भी मान्यता प्राप्त मंदिर, मस्जिद, चर्च या देवस्थान में संपन्न होना चाहिए. इसके अलावा ऐसे दंपति में से किसी एक को भारतीय संविधान के अनुच्छेद 341 के तहत अनुसूचित जाति का होना आवश्यक है.

समाज कल्याण अधिकारी का कहना है कि राष्ट्रीय एकता की भावना को जागृत करने और समाज में एकता बरकरार रखने में अंतरजातीय और अंतरधार्मिक विवाह काफी मददगार साबित होते हैं. ऐसे विवाह करने वाले दंपति शादी के एक साल के भीतर 50 हजार की प्रोत्साहन राशि पाने के लिए आवेदन कर सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here